Sunday , January 17 2021
Breaking News
Home / अभी-अभी / पीडब्ल्यूडी कार्यालय में रात को जमती है महफिल, शराब और शबाब का मजा लेते हैं कर्मचारी और पुलिसकर्मी

पीडब्ल्यूडी कार्यालय में रात को जमती है महफिल, शराब और शबाब का मजा लेते हैं कर्मचारी और पुलिसकर्मी

फरीदाबाद। सेक्टर 7 स्थित पीडब्ल्यूडी कार्यालय में रात को महफिल जमती है, इस महफिल में पीडब्ल्यूडी कर्मचारी और पुलिसकर्मी शराब और शबाब का मजा लेते हैं। दिन में लोगों की समस्यायें सुनकर उनको सुविधायें देने वाला पीडब्ल्यूडी कार्यालय रात को डांस बार में बदल जाता है, हर रोज कार्यालय में मित्रों की महफिल जमती है।

तस्वीरों में दिखाई दे रहा है पीडब्ल्यूडी कार्यालय है जिसमें एसडीओ बैठता हैं जहां टेबल पर शराब के साथ प्रयोग की जाने वाली खाद्य सामग्री रखी हुई है तो वहीं टेबल के नीचे शराब की बोतल का रेफर पड़ा हुआ है, इतना ही नहीं इस कार्यालय में एक बेड भी है जिसपर आरामदायक गद्दा भी पड़ा हुआ है। दिन में समस्यायें सुनने वाला ये कार्यालय रात को किसी होटल के रूम से कम नजर नहीं आता। जहां बैठकर पीडब्ल्यूडी कर्मचारी, पुलिसकर्मी और अन्य साथी शराब और शबाब दोनों का ही मजा लेते हैं।

इस बडी खबर का खुलासा उस वक्त हुअ जब पीडब्ल्यूडी कर्मचारी कार्यालय से बाहर नारियल पानी लेने आया जहां उसकी कहासुनी पडोसी बुजुर्ग के साथ हो गई, कहासुनी इतनी बढ गई कि कर्मचारी और उसके साथियों ने मिलकर बुजुर्ग और उसके परिजनों में डंडों से हमला कर दिया। हंगामा देखकर पडोसी एकत्रित हुए और पीडब्ल्यूडी कार्यालय के अंदर गये तो उन्हें टेबल पर शराब की बोतल और बेड पर लडकियां दिखी, जिसकी शिकायत उन्होंने सेक्टर 7 थाना पुलिस को कर दी। जिसके बाद शराब के नशे में धुत्त पुलिसकर्मी अपनी वर्दी और टोपी गाडी में छोडकर ही फरार हो गया और पीडब्ल्यूडी कर्मचारी व अन्य साथी भी वहां से भाग निकले।

मौके पर पहुंची पुलिस टीम ने सामान को कब्जे में लेकर कार्रवाई शुरू कर दी है मगर पत्रकारों को इसके बारे में कुछ भी बोलने से मना कर दिया गया। वहीं पीडब्ल्यूडी एसडीओ अमित गोयल की माने तो उन्हें विभाग के कर्मचारियों की शिकायत मिली है कि कार्यालय में शराब पी जाती है जिसको लेकर उन्होंने जांच के आदेश दे दिये हैं और पुलिस में भी शिकायत हो चुकी है जल्द कार्रवाई की जायेगी।

विक्रम भारद्वाज, संवाददाता

Check Also

विश्व हिन्दी दिवस की शुरुआत कब औऱ किसने किया ? पूरी खबर पढे

• पूर्व प्रधानमन्त्री मनमोहन सिंह ने 10 जनवरी 2006 में प्रत्येक वर्ष की इसी तारीख़ ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *