Tuesday , January 26 2021
Breaking News
Home / अभी-अभी / हिंदी दिवस के मौके पर प्रबुद्ध लोगों ने रखी अपनी बात, बताई क्या है वजह जो हिंदी रह गई पीछे !

हिंदी दिवस के मौके पर प्रबुद्ध लोगों ने रखी अपनी बात, बताई क्या है वजह जो हिंदी रह गई पीछे !

हिंदी दिवस के मौके पर हिंदी के लिए चिंतित होना एक परम्परा हो गई है लेकिन इसका कोई प्रभाव दिखाई नहीं देता। प्रति वर्ष ढेर सारे कान्वेंट विद्यालय खुलते जा रहे हैं, हिंदी मीडियम के प्रायः ऐसे कोई विद्यालय नहीं दिखते जिनकी गुणवत्ता के कारण उनमें विद्यार्थियों के नामांकन को प्रतिष्ठा का प्रश्न माना जाय। यह स्थिति बहुत बुरी है। आज की शिक्षा का सबसे बड़ा दोष यह है कि युवा पीढ़ी की भाषिक क्षमता कुंद हो गई है। लेख तो बड़ी बात है वे ठीक से कोई आवेदन या ज्ञापन भी नहीं लिख सकते।

अपनी मातृभाषा के प्रति आज की पीढ़ी की यह उपेक्षा न सिर्फ हिंदी भाषा को कमजोर कर रही बल्कि पूरी युवा पीढ़ी के व्यक्तित्व में भी ह्रास ला रही है। उक्त बातें बुद्ध स्नातकोत्तर महाविद्यालय कुशीनगर में हिंदी दिवस पर आयोजित परिचर्चा के दौरान हिंदी विभाग के सहायक आचार्य डॉ० गौरव तिवारी ने कही।

डॉ0 अमृतांशु शुक्ल, प्राचार्य, बुद्ध पीजी कॉलेज, कुशीनगर

महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ० अमृतांशु शुक्ल ने कहा कि स्वतंत्रता आंदोलन के दौरान अनेक अहिन्दीभाषी नेताओं ने हिंदी को राष्ट्रभाषा के रूप में प्रस्तुत करने की वकालत की थी लेकिन स्वतन्त्रता के तिहत्तर वर्षों बाद भी हिंदी को वह मुकाम नहीं मिल पाया है जो उसे मिलना चाहिए। इसका कारण यह है कि हमारे अंदर अपनी मातृभाषा के प्रति वह लगाव और आत्मविश्वास नहीं है जो होना चाहिए।

डॉ0 गौरव तिवारी, असिस्टेंट प्रोफेसर, हिंदी विभाग, बुद्ध पीजी कॉलेज, कुशीनगर।

दर्शन शास्त्र विभाग के अध्यक्ष डॉ० राघवेंद्र मिश्र ने कहा कि हिंदी भाषा वैज्ञानिक भाषा है इसमें जो लिखा जाता है वही पढ़ा जाता है लेकिन हम इसकी क्षमता का उपयोग नहीं कर पाए हैं। बीएड विभाग के डॉ० निगम मौर्य ने अपनी बात रखते हुए कहा कि हिंदी भाषा हमारी संस्कृति की संवाहक है यदि वह कमजोर होती है तो निश्चित ही इससे हमारी संस्कृति प्रभावित होगी। परिचर्चा में डॉ उमाशंकर तिवारी, डॉ राजेश कुमार, डॉ रमेश चंद्र विश्वकर्मा, डॉ पारस नाथ, सत्येंद्र मिश्र, आकाश आदि ने अपने विचार रखे।

Check Also

उत्तर प्रदेश की तरफ से आ रहे एक ट्रक में बंजारी मोड़ के समीप एनएच 27 पर 9 ऊंट बरामद किए गए हैं।

गोपालगंज : शहर के बंजारी मोड़ के समीप एनएच 27 पर एक ट्रक पर लाद ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *