Sunday , January 17 2021
Breaking News
Home / अभी-अभी / रक्त का कोई विकल्प नहीं, मानव रक्त ही मानव के काम आता है : डॉ.सिंह

रक्त का कोई विकल्प नहीं, मानव रक्त ही मानव के काम आता है : डॉ.सिंह

फरीदाबाद। ब्लड बैंक सिविल हॉस्पिटल में रक्त के अभाव को देखते हुए एड्स कंट्रोल सोसाइटी पंचकूला अधिकृत मोटिवेटर डॉक्टर एम.पी.सिंह ने जागरूकता रैली का आयोजन किया। जिसमें अजय पाल काउंसलर चंद्रप्रकाश एलटी ,जवाहरलाल एलटी, बबीता नेगी ,खूब सिंह ,जगबीर, सविता काउंसलर ,तेजराम और डागर मुख्य रूप से उपस्थित थे।

डॉक्टर सिंह ने लोगों को जागरुक करते हुए कहा की सिविल हॉस्पिटल में आपातकालीन स्थिति के दौरान ऐसे लोग आते हैं, जिनका किसी से कोई लेन-देन नहीं होता है। जिनके सगे-संबंधी भी नहीं होते हैं, अधिकतर लोग गरीबी से पीडि़त होते हैं, इसलिए उनसे रिप्लेसमेंट की बात भी नहीं कर सकते हैं। कई बार एनिमिक महिलाओं को प्रसव काल के दौरान अधिक रक्त की जरूरत होती है। ऑपरेशन के दौरान कई यूनिट रक्त की जरूरत होती है। थैलीसीमिया के बच्चों के लिए हर 15 दिन के बाद रक्त की जरूरत होती है।

फरीदाबाद में 60 से अधिक थैलीसीमिया के बच्चे रजिस्टर्ड है, जिनको दस 15 दिन में रक्त चढ़ाया जाना अनिवार्य है। फरीदाबाद शहर में हर रोज कोई ना कोई सडक़ दुर्घटना या आगजनी घटना होती रहती है, जिस से पीडि़त लोगों के लिए भी रक्त की जरूरत होती है। सिंह ने कहा कि अभी तक रक्त का कोई विकल्प नहीं है, मानव का रक्त ही मानव के काम आता है। इसलिए सभी समझदार और स्वस्थ लोगों को रक्तदान करने के लिए आगे आना चाहिए।

उन्होंने बताया कि रक्त देने से किसी प्रकार का कोई शारीरिक नुकसान नहीं होता है, बल्कि नियमित रक्तदान करने वालों को कभी भी हृदयाघात नहीं होता है। सभी गैर सरकारी संस्थाएं और स्वयं सेवक मई और जून के महीने में अधिकतम कैंप लगाने की कोशिश करें, ताकि इस स्थिति पर काबू पाया जा सके। यह हम सब का नैतिक दायित्व भी बनता है।

विक्रम भारद्वाज, संवाददाता

Check Also

विश्व हिन्दी दिवस की शुरुआत कब औऱ किसने किया ? पूरी खबर पढे

• पूर्व प्रधानमन्त्री मनमोहन सिंह ने 10 जनवरी 2006 में प्रत्येक वर्ष की इसी तारीख़ ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *